लोमड़ी और अंगूर

Share With Others

लोमड़ी और अंगूर

एक दिन, एक लोमड़ी कुछ खाने की तलाश में बहुत भूखी हो गई। उसने ऊंच-नीच की खोज की, लेकिन उसे कुछ ऐसा नहीं मिला जिसे वह खा सके।

अंत में, जैसे ही उसका पेट गड़गड़ाया, वह एक किसान की दीवार से टकरा गया। दीवार के शीर्ष पर, उसने अब तक देखे गए सबसे बड़े, रसीले अंगूर देखे। उनके पास एक समृद्ध, बैंगनी रंग था, जो लोमड़ी को बता रहा था कि वे खाने के लिए तैयार हैं।

अंगूर तक पहुँचने के लिए लोमड़ी को हवा में ऊंची छलांग लगानी पड़ी। कूदते ही उसने अंगूर पकड़ने के लिए अपना मुंह खोला, लेकिन वह चूक गया। लोमड़ी ने फिर कोशिश की लेकिन फिर चूक गई।

उसने कुछ और बार कोशिश की लेकिन असफल रहा।

अंत में, लोमड़ी ने फैसला किया कि यह हार मानने और घर जाने का समय है। जब वह चला गया, तो वह बुदबुदाया, “मुझे यकीन है कि अंगूर वैसे भी खट्टे थे।”


Share With Others